उत्तराखंड समाचार: जो मर्जी हो जाए, नही करूँगा डीएनए टेस्ट- महेश नेगी ।


उत्तराखंड का बहुचर्चित विधायक महेश नेगी प्रकरण हल होता नजर नही आ रहा है। लगातार दूसरी बार भी महेश नेगी खून का नमूना देने नही पहुंचे। महिला से दुष्कर्म और उनकी बेटी का जैविक पिता होने के मामले में फंसे द्वाराहाट के विधायक महेश नेगी को आज डीएनए टेस्ट के लिए सीजेएम कोर्ट देहरादून में उपस्थित होना था, लेकिन वह उपस्थित नहीं हो पाए हैं। सूत्रों की माने तो वह फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट चले गए हैं।

आपको बता दें कि एक महिला ने विधायक महेश नेगी पर बीते अगस्त में दुष्कर्म का आरोप लगाया था। साथ ही महिला ने दावा किया था कि विधायक उसकी पुत्री के जैविक पिता हैं। इसकी पुष्टि के लिए महिला अदालत से विधायक का डीएनए टेस्ट कराने की मांग कर रही थी। पहले विधायक ने इस बात पर हामी भर दी थी लेकिन अब मुकर रहे हैं। लगातर दूसरी बार भी वह सैम्पल देने दून हस्पताल नही पहुँचे ।

इस मामले में बीती छह सितंबर को कोर्ट के आदेश पर विधायक और उनकी पत्नी के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था। हालांकि, महिला दून पुलिस की जांच से असंतुष्ट थी और लगातार सीबीआइ से जांच करवाने की मांग करती रही। इसको देखते हुए पुलिस महानिरीक्षक गढ़वाल परिक्षेत्र ने बीती 17 नवंबर को प्रकरण की जांच को दून पुलिस से हटाकर पौड़ी पुलिस को सौंप दिया था।

विधायक महेश नेगी के अधिवक्ता रमेश भट्ट ने बताया कि कोर्ट से समय मांगा गया है। इससे पहले विधायक को सैंपल देने के लिए 24 दिसंबर को कोर्ट में आना था, लेकिन बीमारी का हवाला देकर वह कोर्ट में पेश नहीं हुए इसलिए कोर्ट की ओर से 11 जनवरी को तारीख निर्धारित की गई थी। अब कोर्ट ने निचली अदालत के आदेश पर फिलहाल रोक लगाते हुए सरकार व विपक्षियों को जवाब दाखिल करने के निर्देश दिए हैं। अगली सुनवाई 13 जनवरी को होगी।

 हमारा "पहाड़ समीक्षा" समाचार मोबाइल एप्प प्राप्त करें ।



उत्तराखंड - ताजा समाचार

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।