उत्तराखंड समाचार


देश की राजधानी में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। ऐसेमें उत्तराखंड राज्य में लगातार मृत पाए जाने वाले कौओं के राज से जल्द पर्दा उठ सकता है। वहीं रुड़की के कलियर क्षेत्र में पिछले दो-तीन दिनों में 30 से अधिक मुर्गों की मौत हो चुकी है। लोगों का कहना है रात को मुर्गों को पिंजरों में बंद करते हैं और सुबह दो-तीन मुर्गे मृत मिल रहे हैं। इससे लोगों में बर्ड फ्लू की आशंका के चलते दहशत फैल गई है।

एम्स ऋषिकेश परिसर में 27 कौओं के मरे हुए मिलने के बाद हड़कंप मचा गया। एम्स के ए ब्लॉक के पीछे सुरक्षा गार्डों ने आसपास देखा तो एक के बाद एक 27 कौए मौके पर मरे हुए मिले। थोड़ी दूरी पर दो कबूतर भी मृत मिले। एम्स के जनसपंर्क अधिकारी हरीश थपलियाल ने बताया कि संस्थान परिसर में संदिग्ध अवस्था में 27 कौवे मृत मिलने की जानकारी वन विभाग को दी गई है। एक कौवे के सैंपल को आईवीआरआई बरेली भेजा गया है। बाकी कौओं को दफना दिया गया।

वन विभाग और पशु चिकित्सकों ने मृत कौओं की वीडियोग्राफी कर उनके सैंपल लिए। वन क्षेत्राधिकारी महेंद्र सिहं रावत ने बताया कि जो कौए मृत मिले हैं। उनमें एक सैंपल भारतीय पशु चिकित्सा एवं अनुसंधान संस्थान बरेली भेजा गया है। उन्होंने बताया कि वीरभद्र के बीट अधिकारी को बैराज और आसपास के क्षेत्रों में नजर रखने के लिए कहा गया है। यदि कहीं पर कौए और कबूतर मरे हुए मिलते हैं तो लोग उनके मोबाइल पर जानकारी दे सकते हैं। वहीं बीस बीघा क्षेत्र में एक कौआ और कबूतर मृत मिला।