शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने सोमवार को सचिवालय में विभाग के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में 9वीं व 11वीं कक्षाओं के छात्रों के लिए तत्काल स्कूल खोलने के निर्देश दिए। इसके अलावा छह से आठवीं कक्षा के छात्र-छात्राओं के लिए एक फरवरी से स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं। आपको बता दें कि कक्षा 10 व 12वीं की कक्षाएं पूर्व से ही संचालित की जा रही हैं।

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने कहा कि कोविड-19 की वजह से प्रदेश में पिछले कई महीनों से स्कूल बंद हैं, लेकिन अब स्थिति कुछ सामान्य हो गई है। जिसे देखते हुए 9वीं और 11वीं कक्षाओं के छात्रों के लिए तत्काल स्कूल खोलने के निर्देश दिए गए हैं। मंत्री ने कहा कि इसी हफ्ते अगले दो से चार दिनों के भीतर इन कक्षाओं के छात्रों के लिए स्कूलों को खोल दिया जाएगा। जबकि एक फरवरी से छह से आठवीं कक्षाओं के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूलों को खोलने के निर्देश दिए गए हैं।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक शिक्षा मंत्री के निर्देश के बाद स्कूल खोले जाने का प्रस्ताव तैयार कर इसे शासन को भेजा जा रहा है। स्कूल खुलने से पहले एसओपी जारी की जाएगी। इसके बाद ही कोविड 19 की गाइड लाइन का पालन करते हुए स्कूलों को खोला जाएगा। उत्तराखंड में स्कूलों को खोलने के बारे में शिक्षा विभाग की ओर से प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है, लेकिन इस पर अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री लेंगे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस प्रस्ताव पर मुख्यमंत्री और कैबिनेट बैठक में निर्णय के बाद स्कूलों को खोल दिया जाएगा। एक से पांचवीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल खोले जाने के मसले पर कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

इसके साथ ही उत्तराखंड के सभी विश्वविद्यालय और महाविद्यालय भी फरवरी के पहले हफ्ते में खुल जाएंगे। उच्च शिक्षा राज्यमंत्री डॉ. धन सिंह रावत ने हाल ही में सभी कुलपतियों के साथ हुई बैठक में बनी सहमति के बाद यह फैसला लिया। महाविद्यालय खोले जाने को लेकर सभी ने सहमति जताई थी।