उत्तराखंड के बूढाकेदार के युवक विकास सेमवाल ने अपनी प्रतिभा से कुछ अलग ही कर दिखाया। उन्होंने शिक्षा तो इंजीनियरिंग की ली लेकिन बने कुशल रेस्टोरेट संचालक। इनकी जापान के ओसाका शहर में जेजीकेपी (जय गुरु कैलापीर) नाम से रेस्टोरेट श्रृंखला है। वर्तमान में विकास के पास पांच रेस्टोरेट हैं, जिनमें से एक का संचालन वो खुद कर रहे हैं, जबकि चार उनके माध्यम से अन्य लोग चला रहे हैं। विकास हर साल जापान के 10 स्थानीय निवासियों को रोजगार भी उपलब्ध करवाते हैं।

विकास सेमावल की कहानी उन्ही की जुबानी

विकास का कहना है कि वर्ष 2009 में मेरठ से कंप्यूटर साइंस से बीटेक करने के बाद विकास जापान चले गए। वहां उन्होंने एक कंसल्टेंसी में बतौर कंप्यूटर इंजीनियर नौकरी शुरू कर दी। वर्ष 2011 में वैश्विक मंदी के दौरान कंसल्टेंसी बंद हो गई और विकास की नौकरी छूट गई। लेकिन, विकास ने हिम्मत नहीं हारी और जापान में ही कारोबार करने की सोची। सबसे पहले तो उन्होंने अपने वर्किंग वीजा को बिजनेस वीजा में परिवर्तित कराया। इसके बाद साल 2013 में पहला रेस्टोरेट खोला। रेस्टोरेट चल निकला तो वर्ष 2014 में विकास परिवार को भी ओसाका ले गए। आज वह सफल कारोबारी हैं। विकास जब भी गांव आते हैं तो उनके दोस्त, रिश्तेदार उनसे विदेश में बिजनेस का मंत्र लेते हैं। विकास उन्हें बिजनेस मंत्र देने के साथ ही जापान आने का भी आमंत्रण देते हैं।