राज्य में शनिवार दो जनवरी से कोरोना टीकाकरण को मॉक ड्रिल होगी। इसमें तैयारियों को परखा जाएगा। केंद्र ने सभी राज्यों को टीकाकरण की तैयारियों की समीक्षा के साथ ही पूर्वाभ्यास के निर्देश दिए हैं। चार राज्यों के कुछ जिलों में पूर्वाभ्यास दो दिन पहले हो चुका है। कुछ राज्यों में पहली जनवरी को पूर्वाभ्यास हुआ। राज्य सरकार में दो जनवरी को मॉक ड्रिल होनी है। प्रभारी निदेशक स्वास्थ्य डॉ सरोज नैथानी ने बताया कि कोल्ड चेन मेनटेन करने के साथ ही बूथ तक लोगों को पहुंचाने, एसएमएस डिलिवर करने, टीकाकरण और उसके तीस मिनट तक बूथ में बिठाए रखने जैसे कार्यों का पूर्वाभ्यास होगा।


नागरिक उड्डयन विभाग ने दुर्गम क्षेत्रों में वैक्सीन को पहुंचाने को ड्रोन की मदद लेने का प्रस्ताव दिया है। ऐसे 279 क्षेत्र चुने गए हैं जहां टीका लगाना या लोगों को पहुंचाना मुश्किल हो सकता है। अंतिम फैसला स्वास्थ्य विभाग ने लेना है। टीकाकारण को स्कूलों को बूथ की तरह इस्तेमाल किया जाना है।


कोरोना टीकाकरण को लेकर उत्तराखंड ने अपनी तैयारियां पुख्ता कर ली हैं। सभी जिलों में टीकाकरण का माइक्रो प्लान तैयार किया जा रहा है। हर बूथ पर एक दिन में लगने वाले सौ टीकों को स्वास्थ्य कर्मियों के नाम और बूथ पर तैनात कर्मचारियों के नाम फाइनल किए जा रहे हैं। पहले चरण में 94 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को कोरोना का टीका लगना है। इसके लिए राज्य में 317 कोल्ड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं। हर जिले में स्कूलों में टीकाकरण बूथ बनाए जाने हैं। सभी डीएम से बूथों का चिह्नीकरण कर रिपोर्ट देने को भी कहा गया है।