उत्तराखंड में नशामुक्ति केंद्र संदेह के घेरे में खड़े नजर आ रहे है। हाल ही में राज्य के नशा मुक्ति केंद्र पर आरोप लगा था कि उन्होंने उपचार के लिए आये युवक के साथ मारपीट की जिसके बाद युवक की मौत हो गई थी। अब राज्य में एक और मामला आया है जहां नशे के आदी युवक को नशामुक्ति केंद्र भेजा गया उसके बाद युवक की माँ को युवक से नही मिलने दिया गया और उसके बाद नशामुक्ति केंद्र युवक का शव लेकर युवक के घर पहुंच गया। अब पूरे मामले पर नशामुक्ति केंद्र का गोलमोल जवाब समाने आने के बाद मामला पुलिस ले पास पहुंच गया है।

ऋषिकेश के शांति नगर गली नंबर चार निवासी रजनीश कुमार (30 वर्ष) पुत्र सुरेश सिंह की इंजिनियर्स एनक्लेव देहरादून स्थित एक नशा मुक्ति केंद्र में सोमवार को मौत हो गई। युवक के भाई दीपक ने बताया कि बीती 24 जनवरी को रजनीश कुमार को उक्त नशा मुक्ति केंद्र में भेजा गया था। बीती रविवार को रजनीश की मां बाला देवी उससे मिलने देहरादून नशा मुक्ति केंद्र में गई थी। वहां उपस्थित कर्मचारियों ने रजनीश से मां की मुलाकात नहीं कराई। सीसीटीवी कैमरे में उसे दिखाया गया, जिसमें वह सामान्य नजर आ रहा था। सोमवार की मध्य रात्रि रजनीश के घर में केंद्र कर्मचारी का फोन आया कि रजनीश की मौत हो गई है। शव को घर लेकर आ रहे हैं।

मंगलवार तड़के सुबह नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारी रजनीश का शव लेकर उसके घर पहुंचे। घर में हड़कंप मच गया। जब उसकी मौत के बारे में पूछताछ की गई तो कोई भी स्पष्ट नहीं बता रहा था। साथ आए कर्मचारियों ने बताया कि रजनीश की हार्ट अटैक से मौत हो गई। उसे चिकित्सालय भी ले गए थे मगर, वह बच नहीं पाया। मृतक के भाई दीपक ने बताया कि हमने एंबुलेंस में आए कर्मचारियों से जब हॉस्पिटल का पर्चा और उपचार संबंधी प्रपत्र मांगे तो वहां कुछ भी नहीं दिखा पाए। इस बात को लेकर वहां भीड़ जमा हो गई और मौके पर हंगामा शुरू हो गया। इसके बाद कोतवाली पुलिस को मामले की सूचना दी गई।

सुबह ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। शव को कब्जे में ले लिया गया। पुलिस ने शव लेकर यहां आए एक महिला समेत पांच को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है। वहीं, एक शख्स मौके से फरार हो गया। अब पूरा नशामुक्ति केंद्र ही संदेह के घेरे में है। आखिर जिस दिन युवक की माँ युवक से मिलने गई उस दिन मिलने क्यों नही दिया गाय, कैमरे के पीछे कहीं कोई युवक के ऊपर दवाब बना के तो बात नही करवा रहा था, जैसे कई सवालों के घेरे में खड़ा है नशामुक्ति केंद्र ।