महाकाली नदी

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले में मालपा की महाकाली नदी पर बनी झील के फटने की आशंका से उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और नेपाल में हड़कम्प मच गया है। नेपाल प्रशासन की ओर से जारी ऐसी रिपोर्ट के बाद भारतीय प्रशासन भी सतर्क हो गया है। नेपाल ने अलर्ट जारी करते हुए महाकाली और शारदा किनारे बसी आबादी और नदी में कार्य कर रहे लोगों को सतर्क रहने के निर्देश जारी किया है। ये झील दार्चुला के मालपा नामक स्थान में महाकाली नदी पर बनी हुई है। इस रिपोर्ट के सामने आने के बाद उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश भी अलर्ट पर हैं।

हालांकि यह रिपोर्ट नेपाल की तरफ से जारी की गई है। टनकपुर के एसडीएम हिमांशु कफल्टिया ने बताया कि नेपाल प्रशासन की ओर से जारी अलर्ट की जानकारी है, लेकिन भारतीय प्रशासन के पास फिलहाल ऐसी कोई सूचना नहीं है। अगर महाकाली नदी पर बनी ये झील टूटती है तो इससे काफी नुकसान हो सकता है। सारदा नदी जो की उत्तर प्रदेश में भी बहती है, तक इसका प्रभाव देखने को मिलेगा। इसलिए सारदा नदी के किनारे रहने वाले लोगों को नेपाल सरकार द्वारा पहले ही अलर्ट जारी कर दिया गया है।

उत्तराखंड सरकार ने अभी तक ऐसा कोई निर्देश जारी नही किया है फिर भी एहतियात के तौर पर एनएचपीसी के टनकपुर बैराज प्रशासन और खनन में लगे श्रमिकों को अलर्ट करने के निर्देश दिए गए हैं। आज यानी वीरवार को नेपाल से प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर झील की जांच की जाएगी। धारचूला के एसडीएम अनिल शुक्ला के अनुसार उनको इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है। लेकिन शासन के निर्देशानुसार सुरक्षा के उचित प्रबन्ध किये जाएंगे।