उत्तराखंड प्रांतीय लोक सेवा आयोग के 2016 बैच के टॉपर और टनकपुर के एसडीएम हिमांशु कफल्टिया ने कोरोना काल में कुछ ऐसा किया कि चारों तरफ उनके द्वारा किये गये कार्य की सराहना हो रही है। एसडीएम हिमांशु कफल्टिया ने पूर्णागिरि (टनकपुर) तहसील में पिछले साल नवंबर में नागरिक पुस्तकालय का निर्माण किया। देर रात तक खुले रहने वाले इस पुस्तकालय में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वालों को कामयाबी की बारीकियां भी बताई जा रही हैं।

इसकी शुरुआत एसडीएम ने अपने खर्च पर दिल्ली से 1.13 लाख रुपये की पुस्तकें मंगवा कर की। बाद में उन्होंने इसे लेकर व्यापार मंडल और स्थानीय लोगों को प्रेरित करने के साथ ‘इच फैमिली टू बुक’ की थीम पर लोगों से भी सहयोग लिया। पुस्तकालय में फर्नीचर की व्यवस्था के लिए एक एनजीओ से मदद ली गई। एनसीईआरटी के अलावा सामान्य अध्ययन, विषयगत के अलावा प्रेरणा देने वाली पुस्तकें हैं। जहां कोरोना काल में एक तरफ शिक्षा ठप हो गई थी वहीं दूसरी तरफ एसडीएम हिमांशु के प्रयासों से प्रतियोगी परीक्षार्थियों के लिए स्तरीय किताबों की कमी को दूर करने का प्रयास किया है। उनके इस कार्य को स्थानीय युवाओं द्वारा भी खूब पसन्द किया जा रहा है।

नैनीताल जिले के पिछड़े ओखलकांड ब्लॉक से ताल्लुक रखने वाले हिमांशु कफल्टिया बताते हैं कि तैयारी के दौरान उच्च स्तरीय किताबों की कमी को देखकर पुस्तकालय का विचार आया था। अच्छी पुस्तकों की कमी के अलावा मार्गदर्शन की चुनौती कई बार आई। ऐसी दिक्कतें कमजोर आर्थिक वर्ग के प्रतिभावान युवाओं को न आएं, इसके लिए उन्होंने इस पुस्तकालय की पहल की है। पुस्तकालय में वर्तमान में करीब 500 किताबें हैं और 30 छात्र-छात्राएं पढ़ने आ रहे हैं। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे अभ्यर्थी कहते हैं कि लाइब्रेरी से उन्हें तैयारी में मदद मिल रही और सहयोग और सामूहिकता की सीख भी मिल रही है।