पूर्व मुख्यमंत्री ने बेशर्मी की सभी हदें पार करने में कोई कसर नही छोड़ी। बनाने वाले वैज्ञानिक/डॉक्टरों ने तो दवाई के ऊपर कहीं अपना नाम नही लिखा लेकिन पूर्व मुख्यमंत्री दवाई के ऊपर अपनी तस्वीर छपने में ऐसे लगे रहे मानो इन्होंने ने ही दवाई इजात की हो। पहले अपनी फोटो छपना में जनता का पैसा खराब किया और अब राज्य के होनहार मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह ने अपनी ही सरकार का चेहरा मिटा के फिर जनता का पैसा और जान बचाने में उपयोगी समय दोनों बर्बाद कर रहें हैं। तीरथ सिंह ने अपनी ही पार्टी का चेहरा मिटा के यह तो शाबित कर ही दिया है की भाजपा में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र की कोई अहमियत नही थी। खैर, तीरथ सिंह रावत की भी जिस तरह से एंट्री हुई है उसमें भी आरएसएस की अहम भूमिका है। आज हर कोई जानता है कि भाजपा में कुछ चेहरों को छोड़ किसी चेहरे की कोई अहमियत नही है ऐसे में त्रिवेंद्र रावत अपनी फोटो छपता रहे, शायद उनको अंदेशा नही था कि उनका डोर को कोई ढील दे रहा है।

कोरोना संक्रमित कम गंभीर मरीजों को शासन-प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग कोविड गाइडलाइन के अनुसार होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दे रहे हैं। वर्तमान में शहर के तमाम निजी और सरकारी अस्पताल में लगभग बेड फुल हैं। वहीं, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को समय पर कोरोना किट नहीं मिलने की भी शिकायतें आ रही हैं। इस बीच कुछ लोगों ने कोरोना किट के पैकेटों पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में कर्मचारियों द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की तस्वीरों पर स्टीकर लगाने में समय बर्बाद करने की शिकायत की है। इस संबंध में संपर्क करने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. अनूप कुमार डिमरी ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री की तस्वीर की जगह पैकेट पर कोरोना से बचाव को लेकर जागरूकता से संबंधित स्टीकर लगाए जा रहे हैं। यह कार्य सीएमओ कार्यालय के कर्मचारी दिन-रात जुटकर मेहनत से कर रहे हैं।

इस खबर के बाद बेजान पड़ी कांग्रेस में थोड़ा जान आई तो उन्होंने इसका विरोध किया। पार्टी का कहना है कि ऐसे वक्त में राजनीति करना ठीक नही है। लोगों को किसी के चहरे नही बल्कि दवा की जरूरत है। कोरोना संक्रमित कम गंभीर मरीजों को शासन-प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग कोविड गाइडलाइन के अनुसार होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दे रहे हैं। वर्तमान में शहर के तमाम निजी और सरकारी अस्पताल में लगभग बेड फुल हैं। वहीं, होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों को समय पर कोरोना किट नहीं मिलने की भी शिकायतें आ रही हैं।