बीते रोज देवप्रयाग में बादल फटने की घटना से बाजार में भारी मात्रा में मलबे का भराव हो गया था। साथ ही आइटीआइ का एक भवन और कई दुकानें भी इसकी जद में आ गए थे। वर्तमान में प्रदेश में कोविड कर्फ्यू लागू होने के कारण बाजार में आमजन की आवाजाही नहीं थी, जिससे बादल फटने पर जन हानि नहीं हुई, लेकिन दुकानों का सामान इसकी चपेट में आ गया। घटना की सूचना मिलने पर एसडीआरएफ की एक टीम तत्काल ही सर्चिंग और बचाव कार्य के लिए ऋषिकेश से देवप्रयाग को रवाना हो गई थी। घटना में कोई जनहानि नही हुई हो इसकी आशंकाओं को समाप्त करने और एहतियात के तौर पर सर्चिंग की गई।

एसडीआरएफ की टीम लगातार सर्च ऑपरेशन में जुटी है। टीम को बुधवार को मलबे में आठ लाख रुपये की नकदी और सोने-चांदी के जेवर मिले, टीम ने एक ज्वेलर्स की तिजोरी को मलवे से बाहर निकाला, जब तिजोरी को व्यवसायी और पुलिस के समक्ष खोला गया तो उसमें से आठ लाख रुपये नकद और सोने-चांदी के जेवर बरामद हुए, जिन्हें सिविल पुलिस के माध्यम से स्वर्णकार को वापस किया गया। इससे व्यापारी ने राहत की सांस ली और एसडीआरएफ का धन्यवाद किया।