रुड़की के आरोग्यम अस्पताल में एक नर्सिंग स्टाफ सहित चार कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई है। वहीं सिविल अस्पताल रुड़की में भी एक महिला सहित दो कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई है। उधर, सिविल अस्पताल रुड़की में ऑक्सीजन खत्म होने वाली थी, लेकिन उससे पहले ही ऑक्सीजन गैस के सिलिंडर अस्पताल में पहुंच गए। जिससे मरीजों को बड़ी राहत मिली है।

उत्तराखंड प्रगतिशील पार्टी के अध्यक्ष संजय कुंडलिया का मंगलवार को कैलाश अस्पताल में निधन हो गया। वह पिछले 15 दिन से अस्पताल में भर्ती थे और कोरोना संक्रमित थे। कुंडलिया पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट थे और कई साल से समाजसेवा से जुड़े थे। वह गरीब एवं मजदूर वर्ग की आवाज बने और समय पड़ने पर उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े रहे। उनकी इच्छा थी कि उत्तराखंड में क्षेत्रीय दल की सरकार बने। तभी उत्तराखंड के विकास को उच्च स्तर पर ले जाया जा सकता है। उत्तराखंड में कोरोना की रफ्तार कम होने का नाम नहीं ले रही है, बल्कि नए मरीजों की संख्या हर दिन तेजी से बढ़ती जा रही है। स्थिति की भयावहता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि मंगलवार को पहली बार प्रदेश में कोरोना के 7028 मामले आए हैं। जबकि 85 मरीजों की मौत भी हुई है। चिंता की बात इसलिए भी है कि सैंपल पॉजिटिविटी रेट 18.47 फीसद रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, देहरादून में कोरोना के 2789 मामले आए। ऊधमसिंह नगर में 833, नैनीताल में 819 व हरिद्वार में 657 लोग संक्रमित मिले हैं। इसके अलावा पौड़ी गढ़वाल में 513, पिथौरागढ़ में 231, बागेश्वर में 215, टिहरी गढ़वाल में 200, अल्मोड़ा में 170, चंपावत में 163, उत्तरकाशी में 153, चमोली में 150 व रुद्रप्रयाग में 135 मामले आए हैं।