जबकि देश पिछले एक साल से कोरोनोवायरस संकट का सामना कर रहा है, जिससे कई लोगों की नौकरी चली गई है, और उनके परिवार तबाह हो गए हैं, कई व्यवसायों और व्यापारियों को बहुत नुकसान हुआ है।  ऐसी परिस्थितियों में भी मुकेश अंबानी अरबों कमा रहे हैं। ऑक्सफैम की रिपोर्ट के अनुसार, मुकेश अंबानी ने कोरोनावायरस महामारी के दौरान प्रति घंटे 90 करोड़ रुपये कमाए।  इसकी तुलना में, देश में लगभग 24 प्रतिशत लोग महामारी के दौरान प्रति माह 3,000 रुपये कमा रहे थे।  इस रिपोर्ट में यह भी आंकलन किया गया  कि अकेले अंबानी की संपत्ति 40 करोड़ अनौपचारिक श्रमिकों को कम से कम पांच महीने तक गरीबी से बाहर रखने के लिए पर्याप्त होगी।


रिपोर्ट में कहा गया है कि अंबानी ने महामारी के दौरान जो कमाया वह 40 करोड़ अनौपचारिक श्रमिकों को कम से कम 5 महीने के लिए गरीब रेखा से ऊपर  रख सकता था जो कोविड -19 के कारण गरीब रेखा से नीचे चले गए। ऑक्सफैम की ताजा रिपोर्ट में बताया गया है कि कैसे कोरोनावायरस महामारी ने सबसे अमीर और सबसे गरीब लोगों के बीच आय के अंतर को बढ़ा दिया है।  न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर के सभी देशों में गरीब और अमीर के बीच आय का अंतर बढ़ा है।