पंजाब सरकार ने रविवार को कहा कि कोविड वैक्सीन कंपनी 'मॉडर्ना' ने सीधे राज्य सरकार को टीके भेजने से इनकार कर दिया है क्योंकि उनकी नीति के अनुसार वे केवल भारत सरकार से डील करते हैं, किसी राज्य सरकार या निजी पार्टियों के साथ नहीं।  पंजाब के नोडल अधिकारी विकास गर्ग के बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के निर्देशों के अनुसार, विभिन्न कोविड टीकों की सीधी खरीद के लिए सभी वैक्सीन निर्माताओं से संपर्क किया गया था, जिनमें स्पुतनिकवी, फाइजर, मॉडर्न  हैं।  राज्य में शीघ्र टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए सभी संभावित स्रोतों से टीकों की खरीद को लेकर पंजाब सरकार के प्रयास के बाद सफलता नजर नही आ रही है।

श्री गर्ग ने एक बयान में कहा कि उनको सिर्फ मॉडर्ना से ही जवाब मिला जिसमें कंपनी ने राज्य सरकार के साथ डील करने से इनकार कर दिया। बयान में कहा गया है कि राज्य सरकार को टीकों की अनुपलब्धता के कारण पिछले तीन दिनों में पहले चरण और दूसरे चरण के टीकाकरण को रोकने के लिए मजबूर होना पड़ा।  उन्होंने कहा कि राज्य में टीकों की भारी कमी को पूरा करने के लिए टीकों की खरीद के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं लेकिन भारत सरकार से अब तक 44 लाख से कम टीके मिले हैं।