कोरोना की तबाही के बीच काले फंगस मुकेर्मिकोसिस के बढ़ते मामले सभी को हैरान कर रहे हैं.  ताजा मामला लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल अस्पताल का है।  कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों में काले कवक मुकेर्मिकोसिस के मामले सामने आए हैं।  मिली जानकारी के मुताबिक इस मामले में केजीएमयू के प्रवक्ता व डॉ सुधीर ने खुद अपनी बात रखी है।  "किंग जॉर्ज अस्पताल अब तक म्यूकोमाइकोसिस, यानी ब्लैक फंगस से पीड़ित है"  डॉ सुधीर ने बताया।

इनकी संख्या 13 पहुंच गई है। इन मरीजों में से सात लोग अभी भी कोविड से पीड़ित हैं और जबकि 5 लोग जो कोविड से पीड़ित थे, वे ठीक होकर कोविड के बाद हो गए हैं।  उसका इलाज किया जा रहा है और वह डॉक्टरों की निगरानी में है।  वहीं केजीएमयू के प्रवक्ता डॉ. सुधीर ने भी जानकारी दी है कि 'एक मरीज मेडिसिन आईसीयू में भर्ती है और यह मरीज भी कोविड के बाद का है।  हालांकि उनकी सर्जरी भी हो चुकी है।  डॉ सुधीर का कहना है कि केजीएमयू अस्पताल में पाए गए और काले फंगस से संक्रमित 13 मरीजों में से किसी की भी मौत नहीं हुई है।

हालांकि, लखनऊ को छोड़कर पूरे देश से ब्लैक फंगस के मामले सामने आ रहे हैं।  इसका प्रकोप मेरठ में भी देखा गया है।  यहां दो मरीजों की मौत हो चुकी है और दस और मरीज हैं जो अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती हैं।  मेरठ के सीएमओ डॉ अखिलेश मोहन ने इस बात की जानकारी दी है। उनका कहना है कि जिन कोविड मरीजों को स्टेरॉयड दिया जा रहा है, उनकी इम्युनिटी प्रभावित हो रही है।