केंद्र द्वारा लाए गए कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन किए सात महीने बीत चुके हैं।  इसी बीच यूपी गेट गाजीपुर बॉर्डर पर सुबह किसानों और बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट की घटना सामने आई है। इसने वाहनों में तोड़फोड़ और कुछ लोगों के घायल होने की सूचना दी है।  खबरों के मुताबिक सुबह करीब 10 बजे पार्टी नेता अमित वाल्मीकि का स्वागत करने के लिए कार्यक्रम स्थल के पास कुछ भाजपा कार्यकर्ता मौजूद थे, जिनका ढोल नगाड़ों से स्वागत किया जा रहा था।


इस बीच किसानों ने इस पर आपत्ति जताते हुए काले झंडे भी दिखाने शुरू कर दिए।  देखते ही देखते दोनों गुट आपस में मारपीट करने लगे। भाजपा के एक कार्यकर्ता ने कहा कि हम अपने नेता का स्वागत कर रहे थे और टिकैत अपने सहयोगियों के साथ लोहे के डंडे और हाथों में लाठी लिए आए।  उन्होंने वाहनों में तोड़फोड़ और मारपीट शुरू कर दी।  उन्होंने करीब 70 से 80 वाहनों में तोड़फोड़ की है। भाजपा की रनिता सिंह महानगर उपाध्यक्ष ने कहा, हम पार्टी नेता अमित वाल्मीकि जी के स्वागत के लिए शांति से खड़े थे तभी  टिकैत के समर्थक हथियार लेकर आए और हमारी बहनों पर हमला किया, जिससे कई महिलाएं घायल हो गईं।

दूसरी ओर, किसानों ने आरोप लगाया कि जब कार्यक्रम स्थल पर उनकी पिटाई की गई तो कुछ भाजपा कार्यकर्ता किसानों के खिलाफ नारे लगा रहे थे।  किसानों द्वारा यह भी कहा जा रहा है कि भाजपा कार्यकर्ता गाली-गलौज कर रहे थे। किसानों ने जब नाराजगी जताई तो पथराव करने लगे।  जिसके बाद ये झड़प शुरू हो गई।