कांग्रेस की कद्दावर नेता, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश का हार्ट अटैक से निधन हो गया है। कांग्रेस प्रदेश उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने इंदिरा हृदयेश के निधन की पुष्टि की है। आज सुबह उन्हें गंभीर हालत में दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। लेकिन उनको बचाया नही जा सका। नेता प्रतिपक्ष कांग्रेस संगठन की बैठक में शामिल होने दिल्ली गईं थीं। जहां रविवार की सुबह उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई। 

आपको बता दें कि कुछ समय पहले ही इंदिरा हृदयेश कोरोना से उभरी थीं और उनकी हार्ट संबंधी सर्जरी भी हुई थी। दिल्ली में रविवार की सुबह अचानक उनकी तबीयत ज्यादा खराब हो गई। इसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। लेकिन उनको बचाया नहीं जा सका। उनके बेटे सुमित भी दिल्ली पहुंच रहे हैं। उनके शव को उत्तराखंड लेकर आया जाएगा।

पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उनके निधन पर दुख प्रकट करते हुए कहा कि उत्तराखंड कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री और नेता विपक्ष मेरी बड़ी बहन इंदिरा हृदयेश जी के निधन का दुःखद समाचार मिला। इंदिरा बहिन जी ने अपने लम्बे राजनीतिक जीवन में कई पदों को सुशोभित किया। उनका जाना मेरे लिए एक निजी क्षति है।