कोरोना संकट के बीच कई अन्य मामलों ने स्थिति और खराब कर दी है, इस बीच सीएम शिवराज सिंह चौहान की रखवाली कर रहे आरक्षक अजय सिंह ने खुद को गोली मार ली। उनका शव बुधवार सुबह मंगलवाड़ा थाना क्षेत्र के एक फ्लैट से बरामद किया गया। घटना के वक्त वह घर में अकेला था।  मौके से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है।  घटना मंगलवार-बुधवार की रात की है।  बुधवार की सुबह जब वह मुख्यमंत्री की सुरक्षा में अपनी ड्यूटी पर नहीं पहुंचे तो उनके परिजन अजय के फ्लैट पर उनकी तलाश में गए। वहां से उसका शव बरामद किया गया।

इसके बाद परिजन ने घटना की सूचना पुलिस को दी।  पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए हमीदिया अस्पताल भेज दिया है।  पुलिस ने तहरीर विदिशा में रहने वाले उसके परिजनों को सौंप दी है।  पुलिस ने कहा कि मुख्यमंत्री सुरक्षा के रूप में अजय की ड्यूटी बुधवार सुबह लगाई गई थी।  ड्यूटी पर नहीं होने पर सुरक्षा कार्यालय से फोन किया गया, लेकिन अजय ने फोन नहीं उठाया।  उन्होंने अजय के परिजनों को फोन किया तो उन्होंने भोपाल के पटेल नगर में रहने वाले परिजन (कांस्टेबल) को इसकी सूचना दी।

उन्होंने अजय को भी फोन किया लेकिन कॉल रिसीव नहीं हुआ।  जब वे अजय के फ्लैट में पहुंचे तो कमरा अंदर से बंद था।  अजय की लाश पीछे की खिड़की से पड़ी थी जिसके बाद उन्होंने घटना को मंगलवाड़ा पुलिस को सौंप दिया।  पुलिस ने बताया कि 31 वर्षीय अजय सिंह सेंगर 2012 में 10वीं बटालियन सागर में शामिल हुआ था। फिलहाल वह मुख्यमंत्री की सुरक्षा में तैनात था।  अजय सेंगर परिवार के साथ 6 महीने से तुलसी टावर पटेल नगर फ्लैट में किराए पर रहते थे।