पीएनबी बैंक धोखाधड़ी मामले में वांछित भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी के मामले में डोमिनिका कोर्ट आज एक बार फिर सुनवाई करेगी।  पंजाब नेशनल बैंक से 13 अरब रुपये के घोटाले में फरार हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण मामले में आज सुनवाई होगी।  आरोपी मेहुल चोकसी इन दिनों डोमिनिका की हिरासत में है और उससे जुड़ा मामला स्थानीय अदालत में है।  जानकारी के मुताबिक यह सुनवाई भारतीय समयानुसार शाम करीब साढ़े छह बजे शुरू होगी।  डोमिनिका कोर्ट में पिछले हफ्ते शुक्रवार को मेहुल चौकसी के मामले की सुनवाई हुई, जिसे बुधवार को अगली सुनवाई तक के लिए टाल दिया गया।

डोमिनिका की अदालत ने फिलहाल मेहुल चौकसी के प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी है। भारत सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है कि उसे भारत वापस लाया जाए और कानून का सामना किया जाए।  इस मामले में चोकसी के वकीलों ने बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है।  इसी वजह से कोर्ट ने पिछली सुनवाई में उनके प्रत्यर्पण पर रोक लगा दी थी। आज की सुनवाई में भारत कोर्ट में मेहुल चौकसी के बारे में कई पुख्ता सबूत पेश करेगा।  चोकसी के भगोड़े होने की पुष्टि के लिए भारत सरकार ने दस्तावेज भेजे हैं।  ये कागजात संभवत: बुधवार (2 जून) को अदालत में सुनवाई के लिए हैं।

डोमिनिका हाउस ऑफ असेंबली में विपक्ष के नेता लेनोक्स लिंटन ने कहा है कि भारत से कुछ अधिकारी पिछले हफ्ते के शुक्रवार को बिजनेस जेट से डोमिनिका पहुंचे और कल कुछ और अधिकारी पहुंचे।  वे आज कोर्ट में इस मामले में मदद करेंगे।  उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि यह एंटीगुआ के पीएम थे जिन्होंने कहा था कि हाल के दिनों में आए ये भारतीय अधिकारी (भारत से कुल 8 अधिकारियों की टीम) यहां की सरकारी टीम के सामने सबूत पेश करेंगे और बताएंगे कि चोकसी भगोड़ा है। सीबीआई के पूर्व निदेशक एपी सिंह ने आज डोमिनिका कोर्ट में सुनवाई से पहले कहा है कि इंटरपोल रेड कॉर्नर नोटिस के मुताबिक डोमिनिका मेहुल चोकसी को किसी भी समय निर्वासित कर सकती है क्योंकि वहां उनका कोई कानूनी अधिकार नहीं है।  लेकिन, अगर डोमिनिकन अदालत को पता चलता है कि चोकसी का अपहरण कर लिया गया था और उसे जबरन डोमिनिका ले जाया गया था, तो उसे अपने मूल देश के रूप में एंटीगुआ भेज दिया जाएगा। 

मेहुल चोकसी को लाने के लिए डोमिनिका में आठ सदस्यीय टीम ने डेरा डाला है।  पूरी तैयारी के साथ गई इस टीम में सीआरपीएफ के दो कमांडो के अलावा सीबीआई, ईडी और विदेश मंत्रालय के दो-दो अधिकारी शामिल हैं।  ये लोग कतर एयरलाइंस के विमान से मेहुल के खिलाफ दस्तावेज लेकर दिल्ली से निकले थे।  पूरी तैयारी के साथ पहुंची यह टीम अपनी कोशिशों में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है। सूत्रों के मुताबिक इस टीम में सीबीआई और ईडी के मुंबई जोन के अधिकारी शामिल हैं।  उन्हें पहले दिल्ली बुलाया गया जहां उन्हें आवश्यक निर्देश देकर डोमिनिका भेज दिया गया।  एंटीगुआ और बारबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउन ने शनिवार को भारतीय टीम को लेकर एक विशेष विमान के आने की पुष्टि की है।