क्या जमाना आ गया है, औरतें पुरुषों से वाकई कंधे से कंधा मिलाकर चल रही हैं। दारू की दुकानों पर लगी लाइन हो, होटलों में दारू व डांस पार्टी हो, अपराध हो या नशे का काला करोबार हो, आज हर जगह महिलाओं की भागीदारी बढ़ती जा रही है। भारत में विकास के मायने बस पैंसे रह गये हैं, यही वजह है कि महिलाओं की आज में आपराधिक प्रवृति वाले कार्य राज्य में तेजी से बढ़ रहे हैं। राज्य में पिछले कुछ सालों से देह व्यापार जैसी भी अनेकों खबरें प्रकश में आई हैं जिससे पता चलता है कि राज्य की आबोहवा कितनी तेजी से बदल रही है। ताजा मामला नशे के करोबार से जुड़ा है जिसमें एक माँ अपनी बेटी को साथ लेकर नशे का कारोबार करती हुई पकड़ी गई है।

सीओ सिटी अभय प्रताप सिंह ने बताया कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर हरिद्वार में अवैध रूप से नशीले पदार्थों की तस्करी व बिक्री करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। यह अभियान पूरे उत्तराखंड में अलग अलग स्तरों पर चलाया जा रहा है। इसी अभियान के तहत शुक्रवार को हरिद्वार पुलिस के हत्थे चढ़ी माँ-बेटी की जोड़ी। शुक्रवार सुबह 11 बजे चेकिंग के दौरान पुलिस ने एक्टिवा पर जा रही मां व बेटी को माया विहार तिराहे पर रोका। कोरोना कर्फ्यू के चलते जब इन महिलाओं से जाने का कारण पूछा गया तो वह कोई जवाब नहीं दे पाई। इस पर पुलिस ने दोनों से सख्ती पूछताछ की तो पता चला कि दोनों मां-बेटी स्मैक बेचने के लिए घर से निकली थी। पूछताछ में दोनों ने अपना नाम पूजा व रानी ग्राम बैलई थाना उमरी बेगम जिला गौंडा हाल निवासी विक्रम का मकान बसंत विहार फेस-1 जगजीतपुर बताया। 

गौरतलब है कि उत्तराखंड में नशे का करोबार करने वाले दूसरे राज्यो के लोग हैं। लेकिन इन सब कार्यों में उत्तराखंड की युवा पीढ़ी को बर्वाद करने का एक गहरा षड़यंत्र है। पहाड़ समीक्षा ने पहले भी कई बार स्कूली बच्चों पर नशे के बढ़ते प्रभाव को लेकर खबरें प्रकाशित की हैं। वर्ष 2020 में टिहरी जिले में पकड़े गये नशे के कारोबारी ने कबूल किया था कि वह स्थानीय पॉलीटेक्निक के बच्चों को नशा बेचता है। इससे समझा जा सकता है कि राज्य के युवाओं को नशे से बचाना कितना जरूरी हो गया है।

एसएचओ कमल सिंह लुंठी ने बताया कि स्कूटी पर घूम-घूमकर स्मैक बेच रही मां-बेटी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उनके कब्जे से 50 ग्राम स्मैक और 20 हजार की नकदी भी बरामद हुई है। इन दोनों के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट में मुकदमा दर्ज कर कोर्ट में पेश किया। जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है। उनकी स्कूटी भी सीज कर दी गई है।