अजब-गजब विवाह प्रसंग हरिद्वार जिले से प्रकाश में आया है। जहां लोगों को रिश्ते नहीं मिल रहे वहीं बिचौलिए बने पंडित अब ठगी का काम भी शुरू कर चुके हैं। राजस्थान के मिश्रा परिवार के दो बालकों की शादी नही हो पा रही थी तो वह हरिद्वार में एक पंडित (तथाकथित) से मिले और पंडित ने दोनों युवकों की शादी के लिए लड़की दिखाने और उनके परिवार से मिलाने के नाम पर 01 लाख रुपये ऐंठ लिए और चंपत हो गया। पहले से परेशान मिश्रा परिवार इस घटना से और भी दुःखी हो गया कि शादी के नाम पर उससे किसी ने धोखा कर दिया है।

शहर कोतवाली पुलिस के मुताबिक, राजस्थान के दौसा जिले के कस्बा बांदीकुई निवासी शेर सिंह ने कोतवाली में रपट करवाई कि वह बांदीकुई रेलवे स्टेशन पर ठेकेदार राधा देवी नाम की एक महिला का खाने का ठेला चलाता है। राधा देवी के दो बेटे हैं, जिनकी शादी नहीं हुई है। करीब दो सप्ताह पहले जिला संभल के गांव मैदावली निवासी पंडित बालिस्टर यादव से उनकी मुलाकात हुई थी। बालिस्टर यादव उत्तरी हरिद्वार के खड़खड़ी में रहता है। पंडित ने कहा कि वह शादी करवा देगा, मगर युवतियां गरीब हैं। शादी का पूरा इंतजाम वर पक्ष को ही करना होगा। शादी भी हरिद्वार में ही होगी। इस पर राधा देवी ने हामी भर दी और पंडित ने महिला के परिवार को 05 मई को हरिद्वार आने को कहा। 

शेर सिंह ने बताया कि वह तय दिन पर युवकों (मनीष मिश्रा व रवि मिश्रा) को लेकर हरिद्वार आ गया था। स्टेशन पर पहुंचने के बाद पंडित बालिस्टर यादव ने दो युवतियों से मुलाकात भी करवाई। इसके बाद कन्या पक्ष के घर पर खान-पान का इंतजाम कराने के नाम पर पंडित ने एक लाख रुपये की मांग की, क्योंकि कन्या पक्ष आर्थिक रूप से कमजोर था इसलिए हमने पंडित को 01 लाख रुपये दे दिए। लेकिन पंडित एक लाख रुपये लेकर भाग गया। घंटों इंतजार के बाद भी जब पंडित वापस नहीं आया तो शेर सिंह को शक हुआ। खोजबीन करने पर शादी की पूरी कहानी फर्जी पाई गई। शेर सिंह का आरोप है कि जिन युवतियों को शादी के लिए बुलाया गया था, वह भी वहां से थोड़ी देर बात चली गई। 

पुलिस ने मामले में रपट दर्ज की और बालिस्टर यादव, सोनाली चौहान निवासी हरिपुर कलां व दीप निवासी रानीगली भूपतवाला के खिलाफ धोखाधड़ी में मुकदमा दर्ज कर लिया है। अब पुलिस तेजी से जांच में जुट गई है। कथित पंडित और उन दो युवतियों की तलाश में पुलिस हर सम्भव प्रयास कर रही। समाज में ऐसे लोगों से सावधान रहें जो रिश्ते जोड़ने की आड़ में धोखाधड़ी जैसे खेल खेल रहे हैं।