उत्तराखंड राज्य को मिले पोर्टेबल वेंटिलेटर कुछ ही दिनों में खराब होने से हस्पतालों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बागेश्वर जिले को भी पीएम केयर फंड से मिले दो वेंटिलेटरों के इंस्टॉलेशन में दिक्कत आ रही है। वहीं  पिछले वर्ष सितंबर में पीएम केयर फंड से एसटीएच को 45 पोर्टेबल वेंटिलेटर मिले थे। कुछ दिनों बाद 17 वेंटिलेटर और दिए गए। ये वेंटिलेटर कुछ समय बाद इंस्टॉल किए गए थे लेकिन सुशीला तिवारी अस्पताल (एसटीएच) को पीएम केयर्स फंड से मिले पोर्टेबल वेंटिलेटर कुछ ही दिनों में खराब हो गए।

मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ने एक कंपनी के 28 वेंटिलेटरों को ठीक कराया है जबकि दूसरी कंपनी के 17 वेंटिलेटरों को टेक्नीशियन और इंजीनियर का इंतजार है। ऐसी ही खबरें कई राज्यों से निलकर आई जहां पीएम केयर फंड से मिले वेंटिलेटर कुछ ही समय बाद खराब हो गये। आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने कांग्रेस शासित प्रदेशों पर आरोप लगाया था कि उन्होंने पीएम केयर फंड से मिले वेंटिलेटर का उपयोग नही किया और वे ऐसे ही पड़े हुए हैं। लेकिन एक सच यह भी है कि अधिकांश विण्टेलेटर जो पीएम केयर फंड से खरीदे गये या तो अच्छी गुणवत्ता के नही थे या पूर्व से ही खराब थे।