लंबे समय बाद ऊर्जा निगम की टीम हरकत में आई और सीमांत क्षेत्र में चेकिंग अभियान चलाया। इस दौरान टीम ने कुल 14 घरों में बिजली चोरी पकड़ी। प्राप्त जानकारी के अनुसार कुछ लोग चोरी की बिजली से भवन निर्माण के लिए दरवाजे-खिड़की बनाने को रंदा मशीन और हीटर पर खाना बनाते मिले। जौनसार-बावर के कुछ इलाकों में बिजली चोरी की शिकायतें मिलने पर ऊर्जा निगम टीम ने लगातार दो दिन बावर-शिलगांव खत के डिरनाड़, पुरटाड़, दार्मीगाड़, भूठ, भटाड़, कथियान, ओवरासेर, हरटाड़, छजाड़, बगूर व मैंद्रथ समेत आसपास के गांवों में चेकिग अभियान चलाया था और जब हकीकत सामने आई तो हर कोई दंग रह गया।

उप खंड अधिकारी चकराता अशोक कुमार के निर्देशन में चले इस अभियान में टीम ने एक जगह भवन निर्माण को लकड़ी के दरवाजे, खिड़की बनाने का काम कर रहे कारीगरों को पकड़ा। आरोपित मीटर के पास कट लगाकर चोरी की बिजली से रंदे की मशीन चलाते मिले। इसके अलावा चार घरों में चोरी की बिजली से खाना बनाते लोग पकड़े गए जबकि नौ अन्य लोग बिना कनेक्शन के चोरी की बिजली जला रहे थे। 

एसडीओ अशोक कुमार ने कहा कि चेकिग अभियान के दौरान कुल 14 लोग पकड़े गए। ये सभी लोग अलग-अलग गांव के रहने वाले हैं।
एसडीओ अशोक कुमार ने कहा कि इससे ऊर्जा निगम को हजारों का राजस्व नुकसान हुआ है। चोरी करते पकड़े गए संबंधित आरोपितों के विरुद्ध विद्युत अधिनियम के तहत केस दर्ज कराया है। मामले में एसडीएम संगीता कनौजिया ने राजस्व व थाना पुलिस त्यूणी को केस दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। निगम की इस कार्रवाई से आसपास के अन्य गांवों में हड़कंप मच गया है।