कोरोना में दो साल से बाधित चल रही स्कूली शिक्षा को ठीक करने के लिए शिक्षा विभाग ने कक्षा 01 से 12 वीं तक पाठयक्रम को ऑनलाइन एकत्रित कर लिया है। शिक्षा महानिदेशक विनय शंकर पांडे ने बुधवार को पत्र जारी कर सभी जिलों के मुख्य शिक्षा अधिकारियों एवं प्रधानाचार्य को विद्यालय के प्रति सजग होने एवं इसका ज्यादा से ज्यादा प्रचार करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हर छात्र को एप से जोडऩे और पढ़ाई करवाने के प्रयास होना जरूरी है। अब यह शिक्षा विद्यार्थियों को मोबाइल व टीवी दोनों पर उपलब्ध हो सकेगी। इस एप्प का नाम विद्या रखा गया है।


शिक्षा महानिदेशक ने शासकीय एवं अशासकीय विद्यालयों के सभी शिक्षकों को विद्या एप्प और चैनल की जानकारी एवं प्रशिक्षण देने की जिम्मेदारी एससीईआरटी को दे दी है। उन्होंने कहा है कि जब शिक्षक आनलाइन पाठ्यक्रम एवं पढ़ाई के प्रति अप टू डेट होंगे तभी छात्रों को भी पढ़ाई करवा सकेंगे। इसके साथ ही उन्होंने सभी प्रधानाचार्यों को उनके स्कूल के हर छात्र का डाटा तैयार करने के निर्देश दिए हैं। किस छात्र के घर में टीवी है, किसके पास कौन सा स्मार्टफोन है, छात्र विद्या टीवी चैनल एवं एप्प का फायदा ले रहे हैं या नहीं, इसकी पूरी जानकारी प्रधानाचार्य को रखनी होगी। 


ऐसे छात्र-छात्राएं जिनके घर पर टीवी नहीं है उन्हें विद्या एप्प एवं विद्या चैनल से जोडऩे के लिए पंचायत स्तर पर टीवी उपलब्ध करवाने का सुझाव भी महानिदेशक ने दिया है। उन्होंने कहा कि स्थानीय केबल टीवी के माध्यम से भी जिला प्रशासन विद्या चैनल का प्रसारण करवा सकता है। जनपद स्तर पर जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक और जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक को विद्या एप और चैनल के प्रचार प्रसार के लिए नोडल नियुक्त करते हुए इसकी मासिक समीक्षा करने के निर्देश भी दिए हैं।