महाराष्ट्र के नागपुर जिले के एक वृद्धाश्रम में एक अजीबोगरीब घटना देखने को मिली है। उनके 80 वर्षीय पिता यहां 62 वर्षीय व्यक्ति को छोड़ने वृद्धाश्रम आए थे।  इस तरह वृद्धाश्रम छोड़ने वाले एक बुजुर्ग के भावुक पलों को देखने वाले लोगों ने जब इसके पीछे का कारण पूछा तो पारिवारिक विवाद मुख्य कारण के रूप में सामने आए।  बूढ़े बेटे को गिराने आए बुजुर्ग मां-बाप की आंखों से आंसुओं की धारा थमने का नाम नहीं ले रही थी।  उसने बताया कि बेटे की पत्नी बेटे को बहुत परेशान करती है, कई बार वह उसकी पिटाई भी कर चुकी है।

माता-पिता ने बताया कि पिछले दिनों 62 वर्षीय व्यक्ति पर हमले के बाद उसकी तबीयत बिगड़ गई। इसके बाद बुजुर्ग माता-पिता ने बेटे को वृद्धाश्रम में रखने का फैसला किया।  उन्होंने कहा कि बेटे को यहां छोड़कर जाना दुखद है, लेकिन खुशी है कि वह उसकी अच्छी तरह से देखभाल कर पाएगा।  मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बुजुर्ग दंपत्ति ने बताया कि शादी के बाद उनकी पत्नी बेटे को प्रताड़ित करती थी।  बहू ने शादी के बाद अपनी सास के साथ रहने से इनकार कर दिया था।  उनका कहना है कि बेटे-बहू के परिवार में कोई समस्या न हो, इसलिए हमने भी अलग होना ही उचित समझा, इसके लिए बेटा तैयार नहीं था, लेकिन किसी तरह समझा-बुझाकर कर दिया।  वह बताता है कि बहू का व्यवहार दिन पर दिन उग्र होता गया।  अगर बेटा किसी दिन अपने माता-पिता से मिलने उनके घर जाता था तो बहू घर को सिर पर उठा लेती थी।  कई बार उन्होंने इसके लिए उन्हें (बेटे को) भी मारा।  जनता की शर्म के डर से बुजुर्ग बेटे ने इस व्यवहार को सहन कर लिया, लेकिन समय के साथ बहू का रवैया और खराब होता गया।  बूढ़े मां-बाप ने बताया कि बेटे के बेटे यानी पोते ने भी पिता पर हाथ उठाया है।

बेटे के साथ हो रही इस प्रताड़ना से बुजुर्ग दंपत्ति भी वाकिफ थे, वे अपने बेटे को अपने पास रखना चाहते थे, लेकिन बहू इसके लिए तैयार नहीं थी। उसका कहना है कि उसने कई बार कोशिश की, लेकिन बहू घर पहुंचकर हंगामा करती और पड़ोसियों को भी उकसाती।  62 वर्षीय पुरूष सरकारी सेवानिवृत्त हैं, उनके पास इतनी पेंशन हैकि वह आराम से अपना जीवन व्यतीत कर सकें।  पिता का आरोप है कि इसी पेंशन के चलते बहू अपने पति के साथ रहती थी, पूरी पेंशन लेती है। वह बताता है कि बेटे की हालत देखकर जब उसने वृद्धाश्रम छोड़ने का फैसला किया, तो बहू तैयार नहीं थी, लेकिन जबरन अपने बेटे को वहां से ले आये और वृद्धाश्रम ले गया।