100 यूनिट मुफ्त बिजली वाले बयान पर फंस गई भाजपा सरकार, आम आदमी पार्टी ने दागे एक के बाद एक सवाल। भाजपा की तरफ से सामने नही आई कोई प्रतिक्रिया।

उत्तराखंड सरकार के कैबिनेट मंत्री हरक सिंह ने 100 यूनिट मुक्त बिजली और 101 से 200 यूनिट तक 50% बिल माफ की घोषणा क्या की, कि पार्टी फंसती नजर आ रही है। दरअसल, यह दिल्ली सरकार का मॉडल है और दिल्ली सरकार ने प्रति माह के हिसाब से यह दिल्ली में लागू किया हुआ है। प्रदेश में आम आदमी के आ जाने से भाजपा अंदर ही अंदर थोड़ा डरी हुई है। वजह ? दिल्ली में मिली करारी हार। अब भारतीय जनता पार्टी को लगा कि वोटर कहीं आप की तरफ न बंट जाए इसलिए लगे हाथ मुफ्त बिजली की घोषणा कर दी।


अब सवाल उठ रहा है कि उत्तराखंड सरकार हर दो माह में बिल लेती है। ऐसे में प्रति माह 100 यूनिट मुफ्त देगी या दो माह के 100 यूनिट ? अगर सरकार दो माह के 100 यूनिट मुफ्त देने की बात कर रही है तो यह तो जनता के साथ धोखा हुआ। क्योंकि एक माह में 50 यूनिट बिल तो 99% लोगों का आता ही है। ऐसे में सरकार ने क्या राहत दी, यह सवाल आम आदमी पार्टी ने खड़ा कर दिया है। 


पार्टी के जिला मीडिया प्रभारी डा. राजे सिंह नेगी ने कहा कि हरक सिंह ने घोषणा तो कर दी लेकिन विडंबना यह भी है की अभी ऊर्जा विभाग से ही प्रस्ताव नहीं बना, सिर्फ विभाग समीक्षा बैठक में आनन फानन यह में घोषणा कर दी गई। सरकार इस प्रस्ताव को कैबिनेट में कब पारित करेगी यह भी अभी स्पष्ट नहीं है। नेगी ने कहा कि जब उत्तराखंड में घरेलू बिल ही दो माह में आते हैं। प्रत्येक माह में 100 यूनिट की घोषणा अपने आप ही हास्यास्पद है। इस पर भाजपा की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नही आई है। अब देखना दिलचस्प होगा कि भाजपा यूटर्न लेती है या 100 यूनिट प्रति माह मुफ्त में देती है।