उत्तरकाशी जिले के दो गांवों में बादल फटने से मलबा घुसने से भारी नुकसान। दो मकान, पुल क्षतिग्रस्त होने के साथ दो महिलाओं व एक पुरुष के लापता होने की खबर।

गांव निराकोट और कंकराड़ी में बादल फटने के बाद उफान के साथ आया मलबा घरों में घुस गया। इससे दो मकान, एक मोटर पुल और कई पैदल मार्ग पूरी तरह क्षतिग्रस्त हो गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार दो महिला समेत तीन ग्रामीणों के लापता होने की सूचना है। राहत व बचाव का कार्य जारी है। लापता हुए लोगों में कंकराड़ी के एक व्यक्ति, जबकि मांडो गांव की दो महिलाओं शामिल बताई जा रही हैं।

घटना में तीन घायल व्यक्तियों को उपचार के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। घायलों में गणेश बहादुर, रविंद्र और रामबालक यादव शामिल हैैं। सूचना पर रेस्क्यू टीम मौके पर पहुंची और राहत-बचाव शुरू कर दिया। हालांकि अंधेरा होने के कारण टीम को परेशानी झेलनी पड़ी। रविवार देर शाम तेज बारिश के बाद जिला मुख्यालय के 15 किमी क्षेत्र में पडऩे वाले निराकोट और कंकराड़ी गांव में बादल फटा।

उत्तरकाशी में रविवार रात को निरकोट और कंकराणी क्षेत्र में बादल फटा। निराकोट क्षेत्र से जलजला मांडो गांव पहुंचा, जहां तीन लोग जिंदा दफन हो गए। एसडीआरएफ और पुलिस की खोज बचाव टीम ने सोमवार तड़के तीन बजे के करीब उनके शव बरामद किए। इनमें माधुरी पत्नी देवानन्द, उम्र 42 वर्ष, रीतू पत्नी दीपक, उम्र 38 वर्ष, ईशू पुत्री दीपक, उम्र तीन वर्ष शामिल है।