दूसरे राज्यों से उत्तराखंड आने वाले अराजक तत्वों के लिए कड़ा संदेश, अराजकता की तो होगी कुटाई।

 

बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों ने उत्तराखंड के धर्म स्थलों को पार्टी का अड्डा समझ लिया है। युवक दारू, भांग, बीयर, नशा लेकर धर्म स्थलों पर पहुंच रहे हैं। इससे भारतीय संस्कृति को तो दाग लग ही रहा है, साथ ही उत्तराखंड की आबोहवा को खराब करने का काम किया जा रहा है। हरियाणा और दिल्ली के कुछ युवक हर की पैड़ी के ब्रह्मकुंड और मालवीय घाट पर स्नान करते समय हुक्का पी रहे थे। जिससे नाराज तीर्थ पुरोहितों ने युवकों को पकड़ लिया और हुक्का छीनकर तोड़ते हुए युवकों की जमकर पिटाई कर दी। थोड़ी देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची और हुक्का पीने वाले युवकों को हिरासत में ले लिया।

आपको ध्यान ही होगा कि एक सप्ताह पहले हर की पैड़ी पर शराब के नशे में अश्लील डांस करने का मामला भी सामने आया था। जिसके बाद हरिद्वार पुलिस पुलिस की काफी किरकिरी हुई और गंगा सभा ने पुलिस की भूमिका पर नाराजगी जताई। गुरुवार, 08 जुलाई को हरियाणा और दिल्ली के कुछ युवक गंगा घाट पर हुक्का पी रहे थे। गंगा सभा से जुड़े कुछ तीर्थ पुरोहितों ने उन्हें देखा और पकड़ लिया । फिर क्या था पुलिस जब आती तब आती पुरोहितों ने युवकों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा। यह एक अच्छा कदम है क्योंकि उत्तराखंड आने वाले ऐसे अराजक तत्वों को पता चलना चाहिए कि उत्तराखंड की मेहमान नवाजी से भी खतरनाक यहां कि कुटाई होती है, जिसको उत्तराखंड लोग बात बिगड़ जाने पर ही उपयोग में लातें हैं।