नवजोत सिंह सिद्धू को पंजाब कांग्रेस इकाई का अध्यक्ष बनाया गया है, लेकिन पार्टी के भीतर टकराव अभी खत्म नहीं हुआ है।  सिद्धू और पंजाब के कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच तनातनी अभी भी जारी है। इस बीच पंजाब कांग्रेस के नवनिर्वाचित अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू आज अमृतसर के स्वर्ण मंदिर पहुंचे।  यहां उन्होंने माथा टेका।  उनके साथ बड़ी संख्या में मंत्री और विधायक भी थे।  इन्हें एक तरह का शक्ति प्रदर्शन माना जाता है।


ज्ञात हो कि सिद्धू राज्याभिषेक के बाद से ही समर्थकों से मिलते रहे हैं। आज उन्होंने पार्टी के सभी विधायकों को अमृतसर स्थित अपने घर पर नाश्ते के लिए आमंत्रित किया था।  अब ज्यादातर विधायक सिद्धू के साथ नजर आ रहे हैं। सिद्धू का दावा है कि उनके पास 62 विधायकों का समर्थन है।  पंजाब में कांग्रेस के विधायकों की संख्या 80 है। अमरिंदर सिंह ने मंगलवार को उन खबरों को खारिज कर दिया कि सिद्धू ने उनसे मिलने के लिए समय मांगा था।  अमरिंदर ने यह भी कहा कि सिद्धू से तब तक नहीं मिलेंगे जब तक कि वह सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ की गई अपमानजनक टिप्पणी के लिए सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगते।

वहीं कांग्रेस विधायक परगट सिंह ने कहा है कि सिद्धू को सीएम अमरिंदर से माफी क्यों मांगनी चाहिए? यह कोई सार्वजनिक मुद्दा नहीं है।  सीएम ने कई मुद्दों का समाधान नहीं किया है। ऐसे में उन्हें लोगों से माफी भी मांगनी चाहिए।