नई दिल्ली: राफेल सौदे को लेकर फ्रांस में जांच के आदेश के बाद अब देश में सियासत गरमा गई है। कांग्रेस ने एक बार फिर केंद्र में मोदी पर निशाना साधा है। दरअसल, राहुल गांधी ने हाल ही में मामले की जेपीसी जांच की मांग की है।  एक ट्वीट में उन्होंने नाराजगी जताई।  इस ट्वीट में उन्होंने कहा, 'चोर की दाढ़ी...' ।  राफेल डील को लेकर कांग्रेस ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस की। सम्मेलन में बोलते हुए कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा, आजादी के बाद आने वाली सभी सरकारों ने राष्ट्रीय सुरक्षा को गंभीरता से लिया है। लेकिन मोदी सरकार वह है जो राष्ट्रीय सुरक्षा का मजाक उड़ाती है, और इसे अपने पूंजीपति मित्रों की जेब भरने के लिए प्राथमिकता देती है। 

वहीं कांग्रेस ने कहा, नए खुलासे के साथ राफेल की चर्चा पूरी दुनिया में हो रही है। फ्रांस में राफेल सौदे में मनी लॉन्ड्रिंग भ्रष्टाचार के मामलों की जांच शुरू कर दी गई है। 24 घंटे हो गए हैं लेकिन पूरे देश दिल्ली को देख रहा है, इंतजार कर रहा है और देख रहा है कि सरकार चुप क्यों है? कांग्रेस नेता ने यह भी कहा, अगर आप में हिम्मत है तो प्रधानमंत्री प्रेस कॉन्फ्रेंस करें और इन सवालों के जवाब दें, तो 2024 की बात करें। 2021 तक आपने जो कांड किया है, उसका जवाब दें । सभी हथकंडे अपनाएं लेकिन भारतीय जनता पार्टी के आंतरिक मामले पर चर्चा करना पसंद नहीं है। शायद देश को भी इसमें दिलचस्पी नहीं है, लेकिन देश को दिलचस्पी है कि जहाज 3 गुना कीमत पर क्यों खरीदे गए? सौदे में कोई भ्रष्टाचार नहीं होना चाहिए, बिचौलिए नही होने चाहिए। ये क्यों थे ? इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि दाढ़ी में एक नहीं बल्कि कई तिनके हैं।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा, राफेल एक अंतर सरकारी सौदा था। एक देश ने जांच की, लेकिन दूसरा अब तक चुप रहा। प्रधानमंत्री केवल बोलने के लिए जाने जाते हैं, लेकिन वे चुप हैं। रक्षा मंत्री,  कैबिनेट मंत्री भी खामोश। इस खामोशी की गूंज पूरी दुनिया में सुनाई देती है। बस भारत में नही सुनाई देती ऐसा क्यों हैं?