एक साल पहले ग्रामीणों में से किसी ने दागे थे गुलदार पर छर्रे, पेट मे इंफेक्शन की वजह से जंगली जानवरों का शिकार नही कर पा रहा था गुलदार। वन विभाग में ग्रामीणों के खिलाफ नाराजगी ।

देवप्रयाग क्षेत्र के दुरोगी गांव में दो महिलाओं को मारने वाले गुलदार को लेकर चौकाने वाली बात सामने आई है। बीते दिनों गुलदार ने जंगल में एक महिला को शिकार बना दिया था जिसके बाद देर शाम को वन विभाग ने गुलदार को मार डाला था। अब गुलदार के पोस्टमार्टम में उसके शरीर से एक साल पुराने कई छर्रे मिले हैं। इसके बाद वन विभाग ने पुलिस और प्रशासन को क्षेत्र में हथियार रखने वालों के चिह्नीकरण करने के निर्देश दिए हैं।

 

वन विभाग का कहना है कि इसी वजह से गुलदार ने अपनी प्रवृति बदली और वह आदमखोर हो गया था। विभागीय अधिकारियों का कहना है कि गुलदार के जबड़े और फेफड़ों में परेशानी थी, जिस कारण वह जानवरों का शिकार नहीं कर पा रहा था। छह साल के नर गुलदार के शरीर में मौजूद पुराने छर्रे भी उसकी परेशानी बढ़ा रहे थे। इसके कारण वह इंसानों पर हमले करने लगा।

पोस्टमार्टम रपट आने के बाद वन विभाग सख्त हो गया है। वन विभाग ने पुलिस और प्रशासन को आसपास के क्षेत्र में राइफल और अन्य हथियार रखने वालों का चिह्नीकरण करने के लिए कहा है। डीएस मीणा ने कहा कि किसी ने एक साल पहले गुलदार को मारने का प्रयास किया था। ग्रामीणों की इस प्रकार की हरकत से वन विभाग में भारी नाराजगी नजर आई। जिसके बाद ग्रामीण क्षेत्रों में हथियार रखने वाले लोगों को चिन्हित करने के आदेश जारी कर दिए गये हैं।