लगभग तीन माह बाद पटरी पर लौटी उत्तराखंड परिवहन व्यवस्था, कर्मचारियों में जगी वेतन की आशा।

अप्रैल माह से ठप पड़ा उत्तराखंड परिवहन निगम एक बार फिर से सभी राज्यों के लिए आज से बस सेवा शुरू कर रहा है। अब बसों का संचालन उत्तर प्रदेश की  सीमाओं से शुरू हो गया है इसलिए दिल्ली के लिए बस सेवा सबुह 5 बजे से शुरू कर दी गई है। बुधवार से उत्तराखंड के सभी बस डिपो से उत्तर प्रदेश के शहरों समेत दिल्ली, राजस्थान, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के लिए बस संचालन शुरू हो गया है।


उत्तर प्रदेश की मंजूरी के कारण उत्तराखंड के गढ़वाल और कुमाऊं मंडल के बीच भी बस संचालन नहीं हो पा रहा था, लेकिन अब यह भी शुरू हो गया। रोडवेज महाप्रबंधक दीपक जैन ने बताया कि उत्तर प्रदेश की मंजूरी के बाद पूरे उत्तराखंड से अंतरराज्यीय बस संचालन शुरू कर दिया गया है। उत्तर प्रदेश से पिछले एक माह से बस संचालन की अनुमति मांगी जा रही थी। खुद उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री ने इस संबंध में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से दो हफ्ते पहले बस संचालन की अनुमति का आग्रह किया था, इसके बावजूद उत्तर प्रदेश की मंजूरी नहीं मिली। जबकि, उत्तर प्रदेश की बसें उत्तराखंड की सीमा तक बेधड़क संचालित हो रही थीं।

लेकिन बुधवार को उत्तर प्रदेश सरकार से बस संचालन की अनुमति का पत्र उत्तराखंड के अधिकारियों को मिल गया। जिसके बाद शाम चार बजे से दिल्ली मार्ग की बसों का संचालन मेरठ-गाजियाबाद होकर शुरू कर दिया गया। देहरादून, ऋषिकेश, हरिद्वार, रुड़की और श्रीनगर डिपो की बसें वाया रुड़की-मेरठ मार्ग से दिल्ली के लिए संचालित होने लगीं। वहीं, कुमाऊं से काशीपुर, रामनगर, हल्द्वानी, पिथौरागढ़, टनकपुर आदि से भी बसें मुरादाबाद-गाजियाबाद होकर दिल्ली के लिए शुरू कर दी गईं।