गंगोत्री हाईवे का 30 मीटर हिस्सा धसने से निर्माणाधीन टनल पर बना खतरा । 

उत्तरकाशी जिले में बीते 15 दिनों से बारिश का कहर जारी है।  लगातार हो रही बारिश के चलते हाईवे पर जगह-जगह भूस्खलन हो रहा है। गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर नगुण से लेकर हर्षिल तक जगह-जगह भूस्खलन जोनो की सक्रियता देखने को मिल रही है। कल यानी मंगलवार को गंगोत्री हाईवे पर बड़ेथी के पास सड़क का 30 मीटर हिस्सा टूटकर भागीरथी नदी में समा गया। जिससे हाईवे पर 28.3 करोड़ की लागत से बनाई जा रही 310 मीटर लंबी ओपन टलन खतरे में आ गई है। 

आपको बता दें कि मौसम विभाग ने आज और कल दो दिन भारी बारिश की चेतावनी जारी की हुई है। हालांकि कुछ जिलों में लगातार ही बारिश का कहर जारी है। इनमें बागेश्वर, चमोली और उत्तरकाशी प्राथमिकता में हैं। बागेश्वर में अब तक 07 से 08 मकानों के क्षतिग्रस्त होने की खबर सामने आ चुकी है। जबकि चमोली में हो रही बारिश के कारण बद्रीनाथ हाईवे जगह जगह खतरे से भरा हुआ है। इधर उत्तरकाशी में मंगलवार दोपहर को गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर बड़ेथी के पास अचानक सड़क के नीचे की पहाड़ी दरक गई। जिससे गंगोत्री हाईवे का 30 मीटर हिस्सा क्षतिग्रस्त होकर भागीरथी नदी में समा गया। इससे गंगोत्री हाईवे पर एनएचआईडीसीएल की ओर से बनाई जा रही ओपन टनल खतरे में पड़ गई है।

गंगोत्री हाईवे का 30 मीटर हिस्सा क्षतिग्रस्त होने की खबर के बाद एसडीएम भटवाड़ी देवेन्द्र नेगी, आपदा प्रबंधन अधिकारी देवेन्द्र पटवाल और थानाध्यक्ष विनोद थपलियाल मौके पर पहुंचे और वाहनों की आवाजाही बंद कर रूट को मनेरा बायपास से डायवर्ट किया गया है। आपको बता दें कि जहां पर हाईवे का हिस्सा धसा है वहां से कुछ ही दूरी पर  ओपन टनल का निर्माण किया जा रहा है। हालांकि इस समस्या का निवारण करने के लिए बहुत प्रयास किये गए लेकिन सफलता नहीं मिल पाई। इसके बाद यहां पर एक प्रोजेक्शन गैलरी बनाने का निर्णय लिया गया जिसके लिए 28.3 करोड़ रूपए की लागत से दिसम्बर 2020 में कार्य शुरू हुआ था। लेकिन, लगभग 08 माह बीत जाने के बाद भी यह कार्य पूरा नहीं हो सका और अब बरसात में हाईवे का 30 मीटर हिस्सा और क्षतिग्रस्त हो गया है।