नई दिल्ली: प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को व्यापारी और अवंता समूह के प्रमोटर गौतम थापर को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया।  जांच एजेंसी ने हाल ही में मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अवंता ग्रुप और थापर समेत अपने कई वरिष्ठ अधिकारियों के दिल्ली और मुंबई स्थित ठिकानों पर छापेमारी की थी। इसके बाद थापर से पूछताछ की गई।

थापर पर बैंक फंड का दुरुपयोग, संबंधित पक्षों के साथ फर्जी लेनदेन, बैंकों से गलत तरीके से कर्ज लेना, फर्जी वाउचर और आर्थिक विवरण देना, आपराधिक साजिश और धोखाधड़ी का आरोप है।  जांच एजेंसी इन मामलों में थापर की जांच कर रही है।  थापर पर फॉरेंसिक ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर आरोप लगाए गए हैं।  सूत्रों के मुताबिक ईडी ने गौतम थापर और उनकी फर्म और सहयोगियों के खिलाफ दो मामले दर्ज किए हैं।

इनमें से एक मामला यस बैंक के साथ 467 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का है।  जांच एजेंसी के मुताबिक यस बैंक के पूर्व कार्यकारी निदेशक राणा कपूर ने अवंता रियलमी से बाजार से काफी कम कीमत पर संपत्ति के तौर पर रिश्वत ली।  आरोप है कि राणा कपूर ने थापर की कंपनी को यस बैंक से कर्ज चुकाने की इजाजत देने के लिए रिश्वत ली थी।  इस संपत्ति का बाजार मूल्य 685 करोड़ रुपये है।