उत्तराखंड में बीते तीन दिन से बारिश आफत बनी हुई है। खासकर देहरादून और आसपास के क्षेत्र में बारिश रिकार्ड स्थापित कर रही है।

अगस्त की शुरुआत में मानसून की रफ्तार सुस्त पड़ने के बाद शुरुआती तीन हफ्ते में प्रदेश में सामान्य से 20 फीसद कम बारिश दर्ज की गई। जबकि, अगस्त के अंतिम सप्ताह में मानसून ने चौंका दिया। बीते मंगलवार रात से देहरादून और कुमाऊं के अधिकांश हिस्सों में जोरदार बारिश का सिलसिला बना हुआ है। देहरादून-मसूरी में बारिश तमाम रिकार्ड ध्वस्त कर रही है। टिहरी में बीते दिन में 260 मिमी बारिश दर्ज की गई है। इसके अलावा अन्य जिलों में बारिश सामान्य के आसपास रही, जबकि उत्तरकाशी में सबसे कम 50 मिमी बारिश हुई है।

मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक शनिवार को भी प्रदेश के कुछ इलाकों में बारिश का क्रम जारी रह सकता है। देहरादून, नैनीताल, टिहरी, पौड़ी, चंपावत, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। जबकि, कुछ इलाकों में गरज के साथ बौछार पड़ने की आशंका है। इसको लेकर मौसम विभाग ने चेतावनी जारी की है। देहरादून से सटे पहाड़ी इलाकों में विशेष सतर्कता बरतने की सलाह दी गई है। 

देहरादून में तीन दिन के भीतर 464 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई। जबकि, अगस्त में पूरे माह यहां सामान्यत: 450 से 500 मिमी बारिश होती है। यही नहीं बीते 24 घंटे में मसूरी में 250 मिमी बारिश रिकार्ड की गई। जो कि बीते 12 साल में मसूरी में एक दिन में हुई सर्वाधिक बारिश है। इससे पहले बुधवार को दून में बारिश (254 मिमी) ने 70 साल का रिकार्ड तोड़ा था।