लगभग 2 वर्ष बाद खुलेंगे सभी जूनियर हाईस्कूल, कोविड नियमों का पालन करना अनिवार्य। सफ-सफाई की उचित व्यस्वथाओं का उचित ध्यान रखना स्कूल प्रशासन की जिम्मेदारी।

आपको बता दें कि शासन की ओर से पूर्व में जूनियर हाईस्कूलों सको दो अगस्त से खोलने के आदेश हुए थे, लेकिन बाद में निर्णय को 02 अगस्त के बजाए 16 अगस्त कर दिया गया था। बेसिक शिक्षा निदेशक रामकृष्ण उनियाल के मुताबिक स्कूलों को खोले जाने एवं कोविड गाइड लाइन का पालन किए जाने के लिए सभी मुख्य शिक्षा अधिकारियों को निर्देश जारी किए गए हैं। पूर्व में दो अगस्त से 9वीं से 12वीं तक के स्कूलों को खोला था।


प्रदेश में पांच हजार से अधिक सरकारी, सहायता प्राप्त एवं निजी स्कूल हैं। शासन की ओर से पूर्व में इन स्कूलों को दो अगस्त से खोलने के आदेश हुए थे, लेकिन बाद में निर्णय लिया गया कि दो अगस्त के बजाए इन स्कूलों को 16 अगस्त से खोला जाएगा। हालांकि, अभी प्राथमिक विद्यालय नहीं खुलेंगे। स्कूल खोले जाने को लेकर शासन की ओर से जारी एसओपी के मुताबिक यदि कोई छात्र बिना मास्क स्कूल आता है तो ऐसे छात्र-छात्राओं के लिए स्कूल को मास्क की व्यवस्था करनी होगी।

आपको बताना चाहिएँगे कि राज्य में 2618 सरकारी जूनियर हाईस्कूल हैं, 206 सहायता प्राप्त, 12 अन्य सरकारी एवं 2616 निजी स्कूल हैं। स्कूल खुलने के दौरान सभी शिक्षकों, कर्मचारियों एवं छात्रों के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा। स्कूलों के खुलने से पहले सभी स्कूलों को सैनिटाइज किया जाएगा। बेसिक शिक्षा निदेशक रामकृष्ण उनियाल ने कहा कि अधिकारियों को कहा गया है कि स्कूलों में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए।