पूरानी पेंशन योजना को लेकर एक बार फिर तेज हुई मांग, अनदेखी से नाराज कर्मियों ने 25 अगस्त को विधानसभा घिराव का बनाया मन ।

शुक्रवार को संयुक्त मोर्चा की आनलाइन बैठक हुई, जिसकी अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष अनिल बडोनी ने की। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा विगत दो वर्ष से लगातार कई तरीकों से सरकार तक अपनी बात पहुंचा रहा है। लेकिन, शासन की ओर से पुरानी पेंशन बहाली पर संज्ञान नहीं लिया जा रहा है। अनदेखी से खफा कार्मिक आगामी 25 अगस्त को विधानसभा कूच करेंगे। राष्ट्रीय पुरानी पेंशन बहाली संयुक्त मोर्चा ने तमाम कार्मिकों से कूच में शामिल होने की अपील की है।


उपाध्यक्ष डा. डीसी पसबोला ने कहा कि नई पेंशन व्यवस्था से आच्छादित कर्मचारी हर वर्ष हजारों की संख्या में सेवानिवृत्त हो रहे हैं। इस नई व्यवस्था में उनके पास गुजारे लायक पेंशन तक नहीं है। अपनी इस महत्वपूर्ण मांग की अनदेखी से आजिज कर्मचारी आगामी 25 अगस्त को विधानसभा सत्र का घेराव करेंगे। प्रदेश संयोजक मिलिंद बिष्ट ने कहा कि राज्य के 80 हजार कार्मिक और उनके लगभग पांच लाख स्वजन इस समय सरकार से पुरानी पेंशन बहाली की आस लगाए हुए हैं।

प्रदेश महासचिव सीताराम पोखरियाल ने कहा कि पिछले पांच साल में पेंशन बहाली के लिए हर विधायक, सांसद, मंत्री के चक्कर काटे, लेकिन आश्वासन के अलावा कुछ नहीं मिला। आगामी विधानसभा सत्र वर्तमान सरकार का अंतिम सत्र है, जिसमें पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा प्रमुख्यता से उठाया जाएगा।