शुक्रवार को माइक्रोबायोलाजी विभाग में तैनात एक प्रोफेसर के घर से कार्रवाई के दौरान बड़ी मात्रा में विदेशी शराब पाई गई ।


अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश में मशीन खरीद और मेडिकल स्टोर के टेंडर घोटाले में सीबीआइ की ओर से नामजद आरोपितों के घर पर दबिश दी गई थी । शुक्रवार को माइक्रोबायोलाजी विभाग में तैनात एक प्रोफेसर के घर से कार्रवाई के दौरान बड़ी मात्रा में विदेशी शराब पाई गई । सीबीआइ की सूचना पर मौके पर पहुंची आबकारी विभाग की टीम ने अलग - अलग विदेशी ब्रांड की 32 बोतल शराब बरामद की है । आबकारी अधिनियम के तहत इस मामले में मुकदमा दर्ज कर प्रोफेसर को गिरफ्तार कर लिया गया । हालांकि उन्हें मौके पर जमानत दे दी गई ।। सीबीआइ की ओर से एम्स ऋषिकेश में रोड स्वीपिंग मशीन और मेडिकल स्टोर टेंडर में घोटाले को लेकर दो अलग - अलग मुकदमे दर्ज कराए गए थे । 

मुकदमे में शामिल तीन लोग अलग - अलग विभागों में सहायक और अतिरिक्त प्रोफेसर । शुक्रवार शाम को एम्स परिसर में रहने वाले इन अधिकारियों के घर पर सीबीआइ की टीम ने छानबीन की थी । मामले में आरोपित माइक्रोबायोलाजी विभाग में तैनात अतिरिक्त प्रो . बलराम जी ओमर के घर पर जब सीबीआइ जांच कर रही थी तो वहां बड़ी मात्रा में अलग अलग विदेशी ब्रांड की शराब की बोतल पाई गई । जब उनसे इसके बारे में पूछताछ की गई तो वह इसके बारे में कोई जवाब नहीं दे पाए । जिसके बाद सीबीआइ अधिकारियों ने आबकारी विभाग को सूचित किया । 

आबकारी निरीक्षक प्रेरणा बिष्ट ने बताया कि टीम एम्स परिसर में बलराम जी ओमर के आवास पर पहुंची । मौके से 32 बोतल शराब मिली । एम्स में कार्यरत महिला अधिकारी के घर से सीबीआइ ने जब्त किए दस्तावेजः सूत्रों के मुताबिक बीती शुक्रवार को एम्स की महिला अधिकारी के मुनिकीरेती गंगा वाटिका स्थित लग्जरी फ्लैट में भी सीबीआइ की टीम ने जांच पड़ताल की थी । कई बैंक खातों के अतिरिक्त मौके से अन्य कई दस्तावेज टीम ने बरामद किए हैं । एम्स परिसर में रहने वाले दो अन्य लोग के यहां भी शुक्रवार रात तक जांच पड़ताल की गई ।

प्रकाशन तिथि: अप्रैल 24,2022