गोपीनाथ मंदिर उत्तराखंड


गोपीनाथ मंदिर, गोपेश्वर, चमोली जिले, उत्तराखंड में शिव को समर्पित एक प्राचीन हिंदू मंदिर है। यह गोपेश्वर गांव में स्थित है जो अब गोपेश्वर शहर का हिस्सा है। मंदिर अपनी वास्तु दक्षता में खड़ा है; यह एक शानदार गुंबद और 30 वर्ग फुट (2.8 मी2) गर्भगृह द्वारा सबसे ऊपर है, जो 24 दरवाजों के लिए उपयुक्त है। मंदिर के चारों ओर टूटी हुई मूर्तियों के अवशेष प्राचीन काल में कई और मंदिरों के अस्तित्व की गवाही देते हैं। मंदिर के प्रांगण में एक त्रिशूल है, जो लगभग 5 मीटर ऊँचा है, जो आठ विभिन्न धातुओं से बना है, जो 12 वीं शताब्दी का है। यह नेपाल के राजा, अनीकमल्ला के लिए शिलालेख का दावा करता है, जिसने 13 वीं शताब्दी में शासन किया था। देवनागरी में लिखे गए चार लघु शिलालेख, जो एक बाद की अवधि के हैं, एक को छोड़कर, अभी तक विघटित होना बाकी है। किंवदंती है कि इस स्थान पर त्रिशूल ठीक हो गया, जब भगवान शिव ने उसे मारने के लिए भगवान काम पर फेंक दिया। त्रिशूल का धातु तत्वों द्वारा अनुभवी नहीं है और यह एक आश्चर्य है। किंवदंती यह है कि त्रिशूल शिव का था जिसने इसे मारने के लिए कामदेव (प्रेम के देवता) पर फेंक दिया और यह इस स्थान पर ठीक हो गया। यह माना जाता है कि जबकि क्रूर बल इस त्रिशूल को नहीं हिला सकता है, लेकिन एक सच्चे भक्त द्वारा किया गया हल्का सा स्पर्श भी उसमें आघात पैदा कर सकता है। त्रिशूल की धातु सदी के ऊपर तत्वों द्वारा अपक्षय हो गई प्रतीत नहीं होती है। 


पुराणों में गोपीनाथ मंदिर भगवान शिवजी की तपोस्थली थी। इसी स्थान पर भगवान शिवजी ने अनेक वर्षो तक तपस्या करी थी और कामदेव को भगवान शिवजी के द्वारा इसी स्थान पर भस्म किया गया था। यह भी कहा जाता है कि देवी सती के शरीर त्यागने के बाद भगवान शिव जी तपस्या में लीन हो गए थे और तब “ताड़कासुर” नामक राक्षस ने तीनों लोकों में हा-हा-कार मचा रखा था और उसे कोई भी हरा नहीं पा रहा था।  तब ब्रह्मदेव ने देवताओं से कहा कि भगवान शिव का पुत्र ही ताड़कासुर को मार सकता है । उसके बाद से सभी देवो ने भगवान शिव की आराधना करना आरम्भ कर दिया लेकिन तब भी शिवजी तपस्या से नहीं जागे , फिर भगवान शिव की तपस्या को समाप्त करने के लिए इंद्रदेव ने यह कार्य कामदेव को सौपा ताकि शिवजी की तपस्या समाप्त हो जाए और उनका विवाह देवी पारवती से हो जाए और उनका पुत्र राक्षस “ताड़कासुर” का वध कर सके। जब कामदेव ने अपने काम तीरो से शिवजी पर प्रहार किया तो भगवान शिव की तपस्या भंग हो गयी तथा शिवजी ने क्रोध में जब कामदेव को मारने के लिए अपना त्रिशूल फैका , तो वो त्रिशूल उसी स्थान में गढ़ गया जहाँ पर वर्तमान समय में गोपीनाथ मंदिर स्थापित है। इसी कारण इस मंदिर की स्थापना हुई।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
कौड़ियाला-तोताघाटी में 15 मीटर सड़क ढही, मरम्मत का कार्य जारी ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।