मानी-कंपासी लोकगाथा



कुमाऊँ के जोहार क्षेत्र में चाँचरी नामक लोकगीत व नृत्य प्रसिद्ध है । इन्ही चाँचरी लोकगीतों में एक 'मानी-कंपासी' नामक लोकगाथा भी प्रचलित है । जिसमें पति के विछोह में कंपासी के विरह का अत्यंत हृदयस्पर्शी चित्रण मिलता है ।


कुमाऊँ के जोहार क्षेत्र का मुख्य अंग व्यापार होता है । मानी नाम का एक भोटिया व्यापार के उद्देश्य से लद्दाख की और जाने का फैसला करता है । सर्वप्रथम वह शुभ मुहूर्त जानने के उद्देश्य से जोशी पंडित के पास जाता है और पंडित से शुभ दिन की जानकारी प्राप्त कर वापस घर लौटता है । इसी बीच जब परिवार के लोगों को मानी के लद्दाख जाने की सूचना मिलती है तो सभी आशंकित हो उठते हैं । मानी के परिवार वाले कहते हैं- लद्दाख बहुत दूर है व वहां तक जाना इतना सुगम नही और साथ सामान लेकर जाना तो और भी जोखिमभरा होगा । मानी अपने कुशलतापूर्वक वापस घर लौट आने का आश्वासन देकर उनको संतुष्ट करने का सार्थक प्रयास करता है । यह सब सुनकर मानी की पत्नी कंपासी भी आश्चर्यचकित हो उठती है और पूछती है कि तुम तो दूसरे देश जा रहे हो, मैं कहां जाऊँ ? मानी अपनी पत्नी से कहता है कि तुम धैर्य रखना, मैं शीघ्र ही लौट आऊंगा । अपनी पत्नी से मानी कहता है कि यहां मेरे कुछ सगे-सम्बंधी और रिश्तेदार शत्रु हैं, तुम उनसे होशियार होकर रहना प्रिये । अगर मेरे आने में देरी हो जाए तो तुम प्यारी बेटी का विवाह अच्छी जगह कर देना ।

यह सब सुनकर पास खड़ी वृद्धा माँ भी आँसू बहाते हुए कहती है कि मानी, तेरे लद्दाख जाने पर हम सब किस प्रकार जीवित रहेंगे । तुझे आने में पता नही कितना वक्त लग जाएगा बेटा । तू कब लौटकर आएगा ? माँ को जवाब देते हुए मानी कहता है- माँ जब राम जी कृपा होगी मैं अपने जोहार लौट आऊँगा । अगले ही दिन मानी व्यापार के लिए लद्दाख यात्रा पर निकल पड़ता है । ईधर प्रियतम से विलग-व्याकुल कंपासी की जवानी के सुनहरे दिन वर्ष से वर्षो में और वर्षो से दशकों में व्यतीत होते जाते हैं, किन्तु पति के दर्शन स्वप्न ही बनकर रह जाते हैं । यहां तक की कंपासी के जीवनकाल का अर्द्धभाग मानी के विरह-पीड़ा और उनके वापस घर लौट आने की प्रतीक्षा में ही गुजर जाता है । उधर मानी लद्दाख की अनन्त यात्रा पर पैदल चल रहा है, चलते चलते उनके सात-आठ जोड़ी जूते फट गये हैं किन्तु वह लद्दाख तक नही पहुंच पाता है ।

इस प्रकार प्रस्तुत गाथा में भोटिया व्यापारियों के तत्कालीन अकल्पित संघर्षमय जीवन की अश्रुमय कथा जीवंत होकर सहृदयजनों को निःशब्द बना देती है ।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
कौड़ियाला-तोताघाटी में 15 मीटर सड़क ढही, मरम्मत का कार्य जारी ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।